दिल को छू लेने वाली श्रीकृष्ण स्तुति

0
Spread the love

श्री कृष्ण गोविन्द हरे मुरारे, हे नाथ नारायण वासुदेव।

 

गोविन्द मेरी यह प्रार्थना है, भूलूँ न मैं नाम कभी तुम्हारा ।

 

निष्काम होके दिन रात गाऊँ, गोविन्द दामोदर माधवेति। 1। हे कृष्ण हे यादव, हे सखेति ॥

 

देहान्तकाले तुम सामने हों। वंशी बजाते मन को लुभाते। गाता यही मैं तन नाथ त्यागूं। गोविन्द दामोदर माधवेति। 2। हे कृष्ण हे यादव हे सखेति ॥ प्यारे जरा तो मन में विचारो, क्या साथ लाये क्या ले चलोगे ।

 

जावे यही साथ सदा पुकारो, गोविन्द दामोदर माधवेति। 3। हे कृष्ण हे यादव, हे सखेति ॥ नारी धरा धाम सुपुत्र प्यारे, सन्मित्र सद्बान्धव द्रव्य सारे।

 

कोई न साथी, हरि को पुकारो, गोविन्द दामोदर माधवेति। 4। हे कृष्ण हे यादव हे सखेति ॥ नाता भला क्या जग से हमारा, आये यहाँ क्यों कर क्या रहे हैं?

 

सोचो विचारो हरि को पुकारो। गोविन्द दामोदर माधवेति। 5। हे कृष्ण हे यादव हे सखेति ॥ सच्चे सखा हैं हरि ही हमारे माता-पिता (शील) सुबन्धु प्यारे।

 

भूलो न भाई दिन रात गाओ, गोविन्द दामोदर माधवेति। 6। हे कृष्ण हे यादव हे सखेति ॥

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *