मैक्स हॉस्पिटल वैशाली युवाओं के जीवन को बना रहा सुरक्षित, जटिल बीमारियों का किया जा रहा सफल इलाज

0
Spread the love

मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल वैशाली (गाजियाबाद) में एक मेरठ की एक 18 वर्षीय लड़की का सफल इलाज कर नया जीवन प्रदान किया गया ये लड़की एक्यूट वायरल हेपेटाइटिस (हेपेटाइटिस ए) से पीड़ित थी, जो एक्यूट लिवर फेल्योर से सबंधित होता है. मरीज को एक्यूट रेस्पिरेटरी डिस्ट्रेस सिंड्रोम (एजारडीएस) भी था. कजर्वेटिव तरीके अपनाते हुए पूरी सावधानी से मैक्स हॉस्पिटल वैशाली की डेडिकेटेड टीम भूमिका का इलाज किया और उनकी रिकवरी में अहम रोल निभाया

 

जब भूमिका गर्ग को मैक्स हॉस्पिटल वैशाली लाया गया, तब उन्हें अल्टर्ड सेसोरियम की शिकायत थी और स्थिति गंभीर थी. इस कैस को तुरंत हैंडल किया गया और गहन देखभाल के लिए गैस्ट्रो आईसीयू में ट्रांसफर किया गया जांच रिपोर्टस में पता चला है कि भूमिका एक्यूट वायरल हेपेटाइटिस (हेपेटाइटिस ए) से ग्रसित थी, और ये समस्या एक्यूट लिवर फेल्योर की तरफ बढ़ रही थी और एक्यूट रेस्पिरेटरी डिस्ट्रेस सिंड्रोम (एआरडीएस) की वजह से ये समस्या और जटिल हो रही थी. भूमिका की हालत गभीर थी, उसके सास को संतुलित करने के लिए इनट्‌यू‌बेशन और मैकेनिकल वेंटिलेशन की जरूरत थी.

 

मैक्स हॉस्पिटल वैशाली में गैस्ट्रोएंटरोलॉजी, हेपेटोलॉजी और एंडोस्कोपी विभाग के डायरेक्टर डॉक्टर सुभाशीष मजूमदार ने कहा, जब भूमिका को मैक्स हॉस्पिटल वैशाली में भर्ती कराया गया तब उसकी हालत गंभीर थी एक्यूट वायरल हेपेटाइ‌टिस और एआरडीएस ने मिलकर मरीज की सेहत को चुनौतीपूर्ण बना दिया था जिसके लिए तुरंत इंटेंसिव केयर की जरूरत थी. हम मरीज की कंडीशन को स्थिर करने के लिए ब्रॉड स्पेक्ट्रम एंटीबायोटिक, इट्टावीनस फ्लूड, आईवी मॅनिटोल

 

और अन्य कजर्वेटिव ट्रीटमेट अपनाए.

 

भूमिका के लिवर फेल होने का खतरा देखते हुए लिवर ट्रांसप्लांट की भी प्लानिंग की गई. हालांकि, इसके बिना ही हमारी मेडिकल टीम के प्रयासों से भूमिका ने धीरे-धीरे इंप्रूवमेंट शुरू कर दिया. सावधानी के साथ मरीज की निगरानी और पर्सनलाइज्ड केयर जैसी कंजर्वेटिव मैनेजमेंट स्ट्रेटेजी अपनाकर भूमिका की कंडीशन को बेहतर किया गया

 

डॉक्टर मजूमदार ने आगे बताया, ‘गहन निगरानी के साथ इंटेसिव केयर मिलने के बाद भूमिका की हालत में सुधार होने लगा. भूमिका का वैटिलेटर सपोर्ट हटा दिया गया और धीरे-धीरे उसका लिवर फंक्शन नॉर्मल लेवल पर आने लगा. एडवांस तरीको और मिलकर जुलकर किए गए प्रयासों से हम लोग लिवर ट्रांसप्लांट किए बिना ही मरीज की हालत में सुधार करने में सफल हो गए मरीज की रिकवरी और उसे सेहतमंद होते देखना बहुत ही गर्व और खुशी देता है.”

 

बीमारी को मात देने भूमिका को मैक्स हॉस्पिटल वैशाली से डिस्चार्ज कर दिया गया. गभीर हालत से सेहत में सुधार तक की भूमिका की यात्रा जटिल मामलों में भी कजर्वेटिव तरीकों से प्रभावशाली इलाज की भूमिका को दशौती है. मैक्स हॉस्पिटल वैशाली असाधारण स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने और मेडिकल ट्रीटमेंट में अग्रणी प्रगति के लिए प्रतिबद्ध है. भूमिका का केस पेशंट सेंट्रिक देखभाल के प्रति हमारे समर्पण को दिखाता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *