न्यूमैक्स रियलकॉन कन्सोट्रियम को मिला मुजफ्फरनगर में 77 एकड़ में आधुनिक टाउनशिप बनाने का लाइसेंस

0
Spread the love

न्यूमैक्स रियलकॉन कन्सोट्रियम को मिला मुजफ्फरनगर में 77 एकड़ में आधुनिक टाउनशिप बनाने का लाइसेंस

 

मेरठ। दिल्ली के रियल ग्रुप न्यूमैक्स रियलकॉम रियलकॉन को मुजफ्फरनगर विकास प्राधिकरण ने इंटीग्रेटेड टाउनशिप बनाने के लिए लाइसेंस पर अनुमोदन दे दिया है। न्यूमैक्स रियलकॉन कन्सोट्रियम 77 एकड़ में आधुमिक टाउनशिप विकसित कर सकेगा। लाइसेंस के अनुसार इस टाउनशिप में प्लॉट्स, विलास, इंडिपेंडेंट फ़्लोर्स के साथ कमर्शियल काम्प्लेक्स, स्कूल, पुलिस स्टेशन आदि के निर्माण की परमिशन प्रदान करी गई है।

 

न्यूमैक्स रियलकॉन कन्सोट्रियम के एमडी सुनील गोयल ने बताया कि हमारी पूरी टीम यह लाइसेंस मिलने पर काफ़ी खुश है और मुजफ्फरनगर विकास प्राधिकरण का शुक्रिया करते है। कंपनी 77 एकड़ के इस प्रोजेक्ट का विकास करने में 1000 करोड़ का निवेश करेगी। हमें उम्मीद है कि इस आधुनिक टाउनशिप के निर्माण में हम लगभग 1000 से अधिक लोगों को रोज़गार भी दे सकेंगे। आदित्य प्रजापति, सचिव, एमडीए ने बताया न्यूमैक्स रियलकॉन कन्सोट्रियम को यह लाइसेंस 77 एकड़ में टाउनशिप विकसित करने के लिए दिया गया है, जिसके तहत वह रेरा नियमों और प्राधिकरण के अनुमोदन के आधार पर एक इंटीग्रेटेड टाउनशिप का निर्माण कर सकेंगे. प्राधिकरण मुजफ्फरनगर के विकास की और तेज़ी से काम कर रहा है। हमे उम्मीद है कि न्यूमैक्स ग्रुप को दिया गया यह लाइसेंस शहर के आवासीय और इंफ्रास्ट्रक्चर विकास में अहम भूमिका निभाएगा। मुजफ्फरनगर में बन रही इस टाउनशिप को सुनील गोयल की कंपनी न्यूमैक्स रियलकॉन कन्सोट्रियम बना रही है। जिन्होंने पिछलें 34 सालों में भिवाड़ी, इंदौर, जयपुर, वृंदावन। लखनऊ, रोहतक, पलवल, ग्रेटर नोएडा, सोनीपत आदि शहरों में वल्र्ड क्लास टाउनशिप्स बनाई है। क्वालिटी कंस्ट्रक्शन और समय पर पजेशन के लिए इनकी रियल एस्टेट सेक्टर में अलग ही पहचान है। न्यूमैक्स के साथ सुनील गोयल रियल एस्टेट में अपनी दूसरी पारी की शुरुआत कर रहे है, इसके पहले वह ओमैक्स लिमिटेड के जॉइंट एमडी और को-फाउंडर रहे है। उन्हें पूरा यक़ीन है कि अपने इतने वर्षों के तजुर्बे के साथ वह मुफ़्फ़रनगर की इस टाउनशिप को वेस्टर्न यूपी की सबसे अच्छी टाउनशिप के रूप में विकसित करेंगे।

 

बता दें कि, गत माह आयोजित हुए ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी (जीबीसी 4.0) के बाद मुजफ्फरनगर में 2,811 करोड़ रुपए के निवेश, 1,420 रोजगार देने की घोषणा हुई है। 50 करोड़ से अधिक का निवेश करने वाले पांच प्रोजैक्ट्स धरातल पर उतर रहे है। मुजफ्फरनगर में जो बड़े उद्योग समूह निवेश कर रहे हैं जिसके चलते यहाँ के युवाओं को रोज़गार ढूँढने के लिए शहर से बाहर नहीं जाना पड़ेगा बल्कि बाहरी ज़िलों से लोग मुजफ्फरनगर में नौकरी की तलाश में आयेंगे। शहर का विकास काफ़ी तेज़ी से हो रहा है, जिसमें अच्छी सड़कों और रैपिड रेल के माध्यम से अन्य शहरों से भी कनेक्टिविटी को बेहतर बनाने के प्रयास जारी है। आने वाले कुछ ही समय में मुजफ्फरनगर पश्चिमी उत्तर प्रदेश सबसे ख़ास शहरों में से एक के रूप में सामने आयेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *