गणपति जी और कुंडली में केतू का बहुत बड़ा महत्व भी है क्योंकि हर ग्रह भगवान से भी जोड़ा गया है।

0
Spread the love

गणपति जी और कुंडली में केतू का बहुत बड़ा महत्व भी है क्योंकि हर ग्रह भगवान से भी जोड़ा गया है।

 

जय गणेश काटो क्लेश, गणपति बप्पा मोरया।

गणेश चतुर्थी इसलिए मनाई जाती है क्योंकि पौराणिक कथाओं के अनुसार इस दिन माता पार्वती के पुत्र गणेश जी का जन्म हुआ था.

 

जिनका भाग्य केतु से बना है या केतु से प्रभावित है जिनका केतु बहुत अच्छा या केतु कमजोर या खराब है

:

अगले 10 दिन आपके केतु को जीवन भर के लिए पावरफुल बना सकते हैं और आप के पक्ष में कर सकते हैं

:

यह लेख पूरा पढ़ें और ध्यान से पढ़ें

सबसे पहले तो अपनी जन्म कुंडली निकालें और उसे ध्यान से देखें कि केतु किस घर में बैठा हुआ है

:

अगर नहीं पता तो बहुत विद्वान और बहुत अच्छे ज्योतिषाचार्य जो केवल ज्योतिषाचार्य ना हो एक साधक भी हो जिसके पास साधनाओं का बल हो वह बहुत जरूरी है उससे अपनी कुंडली आज ही दिखाएं

:

और जो भी ज्योतिषाचार्य की दक्षिणा है फीस है वह उसे दे, बस इतना जानना है कि केतु कौन से घर में बैठा है

:

और उसी से एक अपनी कुंडली का प्रिंट निकलवा ले या वह प्रिंट निकाल कर उसकी फोटो खींच कर आपको व्हाट्सएप कर देगा

:

मेरे यहां भी ऐसा हो रहा है मैं भी अपने सभी जुड़े हुए भक्तों से करवा रही हूं।

:

बस मेरे कहने से एक बार ऐसा करें

उस कुंडली को देख कर अपने घर में पूजा स्थान में एक बड़ी सी रंगोली बनाएं जैसी आपकी कुंडली है वही

:

12 खाने बनाएं और 12 खानों में आपकी कुंडली में जहां केतु बैठा हुआ है उस खाने में गणेश जी की स्थापना कर दें, वह मान ले कि यह कुंडली है

:

उस रंगोली से बनी हुई कुंडली को अपनी कुंडली मान लें उसे अपने हाथ से बनाए या घर में आपकी संतान ऐसा कर दे तो भाग्य के दरवाजे खुलेंगे ही खुलेंगे

:

या तो खुद बनाएं या अपनी संतान से अपनी वह कुंडली रंगोली के रूप में डिजाइन करें

:

और जिस घर में केतु है उस घर में गणेश जी की स्थापना कर दीजिए।

:

उन 12 खानों में आप उस खाने में गणेश जी की स्थापना अपने हाथ से करें और अगले 10 दिन तक जैसे मंदिर में जूतियां लेकर नहीं जाते हैं वैसे अपनी बुद्धि को भी बाहर छोड़ दें कुछ मत सोचें कोई विचार मत बनाएं

:

बस जो जैसा चल रहा है उसे चलने दे और केवल और केवल सब कुछ गणेश जी महाराज पर छोड़ दें

:

उनकी पूजा करते रहें

अब इन 10 दिनों में दूसरा कार्य, अपनी संतान को लेकर योजना बनाएं उनकी बीमा पॉलिसी या उनका अकाउंट या उनकी एफडी या उनके कपड़े उनके खिलौने उनका स्कूल का सामान जो भी उनके लिए जरूरी है वह 10 दिनों में करें

:

अब तीसरा कार्य

अपने घर के ऊपर जितना ऊंचा हो सके जितना बड़ा हो सके केतु का निशान लगाएं, झंडा लगाएं, यह कौन सी दिशा में लगेगा यह आपकी जन्मकुंडली ही बताएगी

आपका ज्योतिषाचार्य बताएगा या आप हमसे संपर्क करें हम बताएंगे

:

अगर आपने यह तीन कार्य कर लिए तो यह तो

भाग्य कितना भी खराब हो,

आपका जीवन पूरा अस्त व्यस्त

आपने पहले बहुत उच्च कोटि का जीवन जिया हो

अब आप बिल्कुल जमीन पर आ गए हो ।

मामूली जीवन जी रहे हो।

:

या फिर………..

:

जिनका जीवन बहुत अच्छा है

जिन्हें केतु बहुत कुछ दे रहा है

वह अपने केतु को और मजबूत करने के लिए करें

:

जिनका भी जीवन केतु से प्रभावित है

जैसे कि जिन का केतु अच्छा है और सब केतु दे रहा है वह भी जरूर करें और जिनका केतु बहुत कमजोर है और उनके विरुद्ध है वह भी जरूर करें

:

अगले 10 दिन तक सिर्फ गणेश जी की पूजा करें

अपने दैनिक कार्य करते रहें पर पूजा को लेकर या गणेश जी को लेकर कोई धारणा कोई विचार अच्छा या बुरा बिल्कुल ना बनाएं बिल्कुल कॉमन माइंड रहे

:

बस यह तीनों काम करें मेरी गारंटी है कि आपका जीवन बदल जाएगा

:

जो जो लोग पूजा में थोड़ा टाइम दे सकते हैं

वह एक काम और करें पूजा करने के बाद गणेश जी को भोग लगाने के बाद नित्य प्रति अगले 10 दिन तक अपने कुंडली के अनुसार विशेष मंत्र का जप भी करें

अपने स्थानीय विद्वान ज्योतिषाचार्य से पूछें कि कौन से मंत्र का जप करें

:

जिन्होंने गुरु मंत्र ले रखा है वह उस मंत्र का जप करने से पहले कुछ देर गुरु मंत्र का जप करें

:

केतु से संबंधित भाग्य वाले या दुर्भाग्य वाले अपने जीवन में बहुत बड़ा बदलाव होते देखेंगे यह मेरे जीवन का अनुभव है आप करके देखो

:

कितना भी अस्त-व्यस्त जीवन है वह एकदम सही जगह पर आ जाएगा और आपका जीवन शांत प्रभावशाली सुखमय हो जाएगा पर सब कुछ अपनी कुंडली के अनुसार ही करें।

 

क्योंकि केतु एक ऐसा ग्रह है कि कहा जाता है। केत छुड़ाए खेत। मतलब केतु अगर परेशान करता है तो जातक को मोह माया धन संपत्ति से एकदम दूर कर देता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *