प्रीमैच्योर बच्चे के दोनो फेफड़े जन्म से ही बहुत कमज़ोर थे

0
Spread the love

यह press conference हम एक अत्यंत ही प्रीमैच्योर बच्चे के बचने के उपलक्ष में कर रहे हैं मानविक नाम के इस बच्चे का जन्म मात्र छह माह पहले न्यूटिमा अस्पताल में November में हुआ था इस बच्चे का दोनो फेफड़े के जन्म से ही बहुत कमज़ोर थे और बार बार एन में pneumothorax हो जाता था। 1 samay 4 – 5 line बच्चे के फेफड़ों में साथ ही में डालनी पड़ी थी। यह बच्चा साढ़े तीन महीना वेंटिलेटर पे रहा। शायद यह बच्चा इस क्षेत्र में सबसे अधिक वेंटिलेटर पर रहने वाला बच्चा होगा। इतने लंबे समय तक वेंटीलेटर पर रह कर भी बच्चे का शारीरिक एवं मानसिक विकास अच्छा हुआ। उसका वजन बहुत अच्छे से बढ़ा और साढ़े छह महीना एन आयी सी यू (NICU) में रह कर इस बच्चे का discharge छुट्टी हुआ. करीब १० दिन से यह बच्चा घर परमाँ बाप के साथ है व स्वस्थ है उसको आप oxygen की ज़रूरत नहीं है एवं वह मुँह से ही अपने doodh पीता है। बच्चे की देखने की वॉट सुनने की क्षमता भी ठीक है इसके आँखों की बार kaan की जाँच से निरंतर हुई है और कोई परेशानी नहीं है जिसको दिमाग में कोई bleeding जैसी बीमारी नहीं है इसलिए हम ये आशा करते हैं कि यह बच्चा आगे जाके स्वास्थ्य रहेगा।

 

न्यूटिमा अस्पताल में निरंतर इस तरह के प्री7मैच्योर बच्चों को बचाने में हमारी डॉक्टर एवं नर्स की टीम दिन रात लगी रहती है एवं हर महीने इस तरह के अत्यंत प्रीमैच्योर बच्चों को हम बचाते हैं। प्रीमैच्योर बच्चों के लिए मैं यह अवश्य कहना चाहूँगा की न्यूटिमा अस्पताल से बेहतर कोई अस्पताल में NICU नहीं है । देहली के बड़े अस्पतालों में जो सुविधा लाखो लाखों रुपयों में उपलब्ध है वाह उसके आंशिक दरों में मेरठ के इस न्यूटिमा हॉस्पिटल में उपलब्ध है।

 

एक प्रश्न उठता है कि इतनी प्रीमैच्योर डिलेवरी आज कल क्यों हो रही है वह इसका कोई बचाव है क्या इस par यह कहना चाहूँगा की माताएँ pregnancy के

दौरान निरंतर अपने आप से ऑब्स्टेट्रिक या अच्चा Dr. को दिखाए apna blood pressureचेक कराएं और इन्फैक्शन का कोई लक्षण आते ही तुरंत उसका उपचार कराएं। बीपी बढ़ाना हाइपरटेंशन होना बच्चेदानी का पानी कम होना (ऑलिगोहाइइमियोस) इन्फैक्शन एवं बच्चेदानी का साइज कम होना या सर्विक्स का खुल जाना या एवं प्लेसेंटा से bleeding होना (APH) या २-३ बच्चे एक साथ होना अक्सर प्रीमैच्योर delivery कराता है। ८ माह से कम पर जन्मे बच्चे NICU में ऐडमिट होने आवश्यक हैं। ७ माह से कम पर जन्मे बच्चों को बचाना कठिन होता है। ७ माह से प्रीमेच्योर बच्चो की डिलीवरी ऐसे अस्पताल में होनी चाहिए। • जहां अत्याधुनिक NICU हो अवाम अच्छे डॉक्टर की टीम वहाँ हमेशा हो । न्यूटिमा हॉस्पिटल में ऐसे बच्चों के लिए २५ घंटे सुविधा उपलब्ध है। यहाँ अत्याधुनिक वेंटीलेटर अल्ट्रासाउंड एवं दिल के ईको की सुविधा भी २४ घंटे उपलभद्ध है। यूपी एंड आस पास के छेत्र के लोगों के लिए ये एक वरदान है

डॉ. अमित उपाध्याय

DM Neonatology

नवजात शिशु विशेषज्ञ न्यूटीमा हॉस्पिटल, मेरठ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *