खाटू श्याम बाबा की निशान यात्रा का भव्य आयोजन

0
Spread the love

मनमोहक निशान यात्रा परम पावन रंगभरी एकादशी और हवन पूजन भंडारे का आयोजन समारोह आयोजित किया गया आज के दिन भगवान श्री कृष्ण ने महा बलि भीम के पोते बर्बरीक से परीक्षा में शीश का दान मांगा था क्योंकि भगवान श्री कृष्ण को मालूम था बर्बरीक की तरफ से युद्ध लड़ेंगे वही युद्ध जीतेगा मैं अपनी मां को वरदान दिया था कि हर हारे के सहारे की तरफ से मैं युद्ध लडूंगा जिसका फैसला भगवान कृष्ण को मालूम था कभी नहीं होगा बरबरी किस देने पर भगवान श्री कृष्ण ने उन्हें वरदान दिया कलयुग में तुम सबसे ज्यादा पूजा जाओगे और हारे के सहारे कहलाओगे मेरे नाम से पहचाने जाओगे खाटू श्याम और हमारे धर्म ग्रंथों पुराणों में वर्णित है कलयुग में नीले घोड़े पर सवार होकर कल्कि अवतार होगा कुछ लोगों का मानना है

 

खाटू श्याम तीन चार धारी भगवान विष्णु का अवतार काल की ही है जो धरती से अधर्म को मिटाने धर्म की स्थापना के लिए पैदा हुए हैं जिनकी याद में हर साल रंगभरी एकादशी पर निशान यात्रा निकाली जाती है और भंडारे हवन यज्ञ का आयोजन बड़ी धूमधाम से किया जाता है। और जीत गए दान का मतलब अभिमान से रहित होना भी है और होली का मतलबी है जो हो चुका उससे पार पा लिया जाए एक दूसरे को रंग लगाया जाए गले मिला जाए होली यानी कि होलिया शीश का दान यानी कि अभिमान का त्याग जय खाटू नरेश की जय हारे के सहारे की और जय तीन तीर धारी की मोर मुकुट वाले की नीले घोड़े वाले की यह आयोजन मां बगलामुखी श्री दक्षिणेश्वरी काली पीठ प्राचीन वन खंडेश्वर महादेव शिव मंदिर कैलाश प्रकाश स्टेडियम चौराहा साकेत मेरठ में प्राण प्रतिष्ठित खाटू श्याम की सेवा हेतु किया गया जिसके बारे में आचार्य प्रदीप गोस्वामी ने यह सब वर्णित किया है जिसमें बहुत से भक्तजनों और श्रद्धालुओं ने भी हिस्सा लिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *